पहेलियां

Posted On जुलाई 16, 2007

Filed under Uncategorized

Comments Dropped one response

खाती  पीती  नहीं  कुछ  भी,  हरदम  चलती  जाए।  पल-पल  बड़ा  कीमती,सबको   सदा  यही  समझाए।
                                                              (घड़ी)
काला  हूं  मतवाला  हूं,  और  मधुर  रस  वाला  हूं।  तीन  वर्ण  का  नाम  बना,  मध्य  हटा  तो  जान  बना।
                                                             ( जामुन)

One Response to “पहेलियां”

  1. वि‍ष्णु बैरागी

    इक्‍कीसवीं सदी में ऐसी पहेलियाँ तो अब अखबारों में भी गलती से भी नहीं आतीं । इस क्रम को जारी रखिए । कम्‍प्‍यूटर और नेट को वर्तमान का अन्तिम सच मान कर जी रहे हमारे बच्‍चों को ऐसी पहेलियॉं अपने सम़ध्‍द लोक जीवन वाले अतीत से रू-बरू कराऍंगी ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s