जानकारियां

Posted On जून 14, 2007

Filed under Uncategorized

Comments Dropped leave a response

उम्र  छोटी  काम  बड़े—-
          गुरुनानक  को ९ वर्ष  की  उम्र में ही उनके शिक्षक मौलाना कुतुबुद्धीन से भी बहुत अधिक ज्ञान प्राप्त था।
          संत ज्ञानेश्वर ने १२ वर्ष की उम्र में भगवद् गीता पर मराठीछन्दों में ज्ञानेश्वरी गीता लिखी थी।
          छत्रपति शिवाजी ने १३ वर्ष की  आयु  में  तोरण का किला जीता था।
          जगद् गुरु शंकराचार्य ने ६ वर्ष उम्र में  सारे भारत के पंडितों को शास्त्रार्थ में पराजित किया था।
          विश्व विजेता सिकन्दर ने १६ वर्ष की उम्र में शोरोनियां का युद्ध जीता था
          विश्व कवि रविन्द्रनाथ ठाकुर ने इंग्लेंण्ड के महाकवि शेक्सपीयर के मैकबेथ नाटक का बंगला
          अनुवाद १४ वर्ष की आयु में किया था।
                                            धन्यवाद।