Posted On मई 7, 2007

Filed under Uncategorized

Comments Dropped leave a response

वह सच्चा कवि है जो कविता की अनुभूति में उत्कृष्ट और उच्च आन्नद पाता है, चाहे उसने अपनी तमाम जिंदगी में
कविता की एक लाईन भी न लिखी हो।

‘दूसरे तुम्हारे बारे में क्या सोचते हैं ‘, इसकी अपेक्षा ‘ अपने बारे में तुम्हारा ख़्याल ‘ बहुत ज्यादा महत्व की चीज़ है।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s